rahat indori shayari in hindi राहत इंदौरी शायरी

when we hear the names of  rahat indori shayari , the poetry starts coming in our hearts and minds.This is a famous poetry writer of our country. Everybody’s heart is awake by listening to his poems. Let’s see some of his wonderful poems.
जब हम रहत इंदोरी का नाम सुनते हैं, तो कविता हमारे दिल और दिमाग में आने लगती है। यह हमारे देश की एक प्रसिद्ध कविता लेखक है। उनकी कविताओं को सुनकर हर किसी का दिल जाग जाता है। आइये देखते हैं उनकी कुछ अद्भुत कविताएँ।

सवाल ढूंढो और जवाब दो और जीतो Rs.5000
Find question And Give the answer and win Rs.5000

toofaanon se aankh milao, sailaabon par vaar karo:
mallaahon ka chakkar chhodo, tair ke dariya paar karo:
तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो:
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो:♣♣

rahat indori, राहत इंदौरी शायरी इन हिंदी

rahat indori shayari in hindi

roz taaron ko numaish mein khalal padata ha:i
chaand paagal hai andhere mein nikal padata ha:i
रोज़ तारों को नुमाइश में ख़लल पड़ता है:
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है:♀♀

rahat indori shayari in hindi, राहत इंदौरी की सम्पूर्ण

Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe:
jab tak tumhare haath mere haath me rahe:
Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum:
Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe:
सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें:
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें:
शाखों से टूट जाए वो पत्ते नहीं हैं हम:
आंधी से कोई कह दे की औकात में रहें:♣♣

rahat indori sher, राहत इन्दौरी – कविता

aisee sardee hai ki sooraj bhee duhaee maange:
jo ho parades mein vo kisase razaee maange:
ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे:
जो हो परदेस में वो किससे रज़ाई मांगे: ♀♀

rahat indori poetry, राहत इंदौरी शायरी

beemaar ko maraz kee dava denee chaahie:
main peena chaahata hoon pila denee chaahie:
बीमार को मरज़ की दवा देनी चाहिए:
मैं पीना चाहता हूँ पिला देनी चाहिए:♣♣

rahat indori love shayari, राहत इंदौरी राजनीति शायरी

Roz taaron ko numaish mein khalal padta hain:
Chaand pagal hain andhere mein nikal padta hain:
Uski yaad aayi hain saanson, jara dhire chalo:
Dhadknon se bhi ibaadat mein khalal padta hain:
रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं:
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता हैं:
उसकी याद आई हैं सांसों, जरा धीरे चलो:
धडकनों से भी इबादत में खलल पड़ता हैं: ♀♀

shayari rahat indori, राहत इंदौरी सैड शायरी

rahat indori sher

phoolon kee dukaanen kholo, khushaboo ka vyaapaar karo :
ishq khata hai to, ye khata ek baar nahin, sau baar karo:
फूलों की दुकानें खोलो, खुशबू का व्यापार करो:
इश्क़ खता है तो, ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो: ♣♣

dr rahat indori images, राहत इंदौरी शायरी इन हिंदी डाउनलोड

Gulab, khwab, dwa, jahar, jaam, kya kya hain:
mein aa gay hun bata intzaam kya kya hain:
Fakir, shaah, kalndar, imaam, kya kya hain:
Tujhe pata nahi tera gulam kya kya hain:
गुलाब, ख्वाब, दवा, ज़हर, जाम क्या क्या हैं:
में आ गया हु बता इंतज़ाम क्या क्या हैं:
फ़क़ीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या क्या हैं:
तुझे पता नहीं तेरा गुलाम क्या क्या हैं: ♀♀

dr rahat indori, राहत इंदौरी की मशहूर शायरी

botalen khol kar to pee barason:
aaj dil khol kar bhee pee jae:
बोतलें खोल कर तो पी बरसों:
आज दिल खोल कर भी पी जाए: ♣♣

shayari of rahat indori, राहत इंदौरी मुशायरा